GST kya hai

GST kya hai, GST का फुल फॉर्म है गुड्स एंड सर्विसेज टैक्स या वस्तु एवं सेवा कर। ये 1 जुलाई 2017 से भारत सरकार द्वारा लागू किआ गया।

GST kya hai aur ye kyun laagu kiya gaya

भारत सरकार द्वारा पहले विभिन सामानों पर अलग अलग तरह के टैक्स वसूले जाते थे। केंद्र और राज्य सरकार द्वारा वसूला जाने वाला टैक्स अलग अलग चीज़ो के लिए अलग अलग रहती थी।

GST kya hai

एक ही सामान पर बहुत सारे टैक्स लगने से ग्राहक तथा विक्रेता दोनों के मन में बहुत से सवाल रहते थे। कुछ चीज़ों पर प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगाया जाने वाला कर 50% से भी अधिक होता था। सामान के बन ने से बिकने तक अलग अलग लेवल पर टैक्स वसूला जाता था जिस से उस सामान का मूल्य बढ़ जाता और ग्राहक को ज्यादा पैसे देने पड़ते थे।

GST एक गंतव्य आधारित कर हैं जो प्रत्येक वस्तु के मूल्य पर लगाया जाएगा। GST के तहत कर का संग्रह एक ही स्थान पर होगा। जैसे GST से पहले राज्य तथा केंद्र सरकार कच्चे माल की खरीद से लेकर उत्पादन और तैयार प्रोडक्ट की बिक्री तक हर चरण पर कर वसूलती थी।

GST एक गंतव्य बेस्ड tax है जिसका मतलब टैक्स की वसूली सामान बनाने वाले राज्य में होने के जगह सामान जिस राज्य में बिकेगा वहाँ होगी। जैसे अगर कोई सामान गुजरात में बना हो पर उसकी बिक्री महाराष्ट्र में हुई हो तो कर की वसूली महाराष्ट्र में होगी।

GST के अंतर्गत भी तीन कर का प्रावधान हैं।
1. CGST (सीजीएसटी)
2. SGST (एसजीएसटी)
3. IGST आईजीएसटी)

CGST kya hai

CGST और सेंट्रल GST केंद्र सरकार द्वारा अर्जित किया जाने वाला कर हैं। इसके अंतर्गत एक्साइज ड्यूटी और सर्विस टैक्स आते हैं।

SGST kya hai

SGST और स्टेट GST राज्य सरकार द्वारा अर्जित किया जाने वाला कर हैं। इसके अंतर्गत VAT, लक्ज़री टैक्स इत्यादि आते हैं।
SGST और CGST राज्य के भीतर होने वाली बिक्री पर ही वसूले जाते हैं और राजस्व का विभाजन राज्य सरकार और केंद्र सरकार के बीच किया जाता हैं।

IGST kya hai

IGST अंतर-राज्य बिक्री पर वसूला जाता हैं। एक राज्य से दूसरे राज्य में सामन की बिक्री होने पर यह कर वसूला जाता हैं। IGST से अर्जित राजस्व का विभाजन केंद्र तथा राज्य सरकार और केंद्र सरकार द्वारा GST Council के नियम अनुसार होता हैं।

GST के फायदे और नुकसान

GST के फायदे:-

देश भर में एक सामान टैक्स।
एक ही चरण में लगने के कारण ग्राहक को कुछ समान पहले से कम कीमत पर मिलेंगे।
ऑनलाइन होने के कारण राज्य तथा केंद्र सरकार के राजस्वा वसूली में बढ़ोतरी।
GST के वजह से लक्ज़री आइटम्स पर टैक्स लागू हुआ तथा बेसिक जरुरत की सामानो पर टैक्स कम।

GST के नुकसान :-

GST के लागू होने से सबसे ज्यादा नुकसान सामान बनाने वाले राज्य के राजस्व में हुआ।
GST के ऑनलाइन होने के वजह से सॉफ्टवेयर खरीदने की जरुरत पड़ी और फल स्वरुप व्यपारियो का खर्च बढ़ा।

GST के लागू होने के बाद से व्यापारियों और ग्राहक दोनों को बहुत लाभ हुए है। हालाँकि वित्तीय वर्ष के बीच में लागु होने के वजह से शुरू में व्यापारियों को कई कठिनाइयों का सामना करना पड़ा था। Online taxation सिस्टम होने के चलते कई व्यापारियों को ट्रेनिंग की जरुरत पड़ी साथ ही नए सॉफ्टवेयर का इंतजार करना पड़ा।

इन सब कदम के चलते tax रिलेटेड धोकड़धी में कमी आयी हैं और सरकारों का राजस्वा बढ़ा हैं। अंतत इस से हम आम नागरिक को ही लाभ मिलने वाला हैं।

GST के लिए पंजीकरण कैसे करे

आपने ये जान लिया की GST kya hai और यह भी की व्यपारियो को GST के लिए पंजीकरण करना पड़ता हैं।

GST का पंजीकरण के steps बहुत ही सरल हैं

  • सबसे पहले GST के पोर्टल पर जाए।
  • फॉर्म A में अपना mobile number और email id दर्ज करे।
  • OTP के माध्यम से आपकी दर्ज की हुई जानकारियों की पुष्टि की जाएगी।
  • OTP आपके mobile number या email पर आपको मिलेगा जिसे आप फॉर्म B में भरेंगे।
  • अगले भाग में आपको अपने व्यवसाय से जुड़े दस्तावेजों को upload करना होगा जो GST अधिकारी द्वारा verify किआ जायेगा।
  • अगर आपके दस्तावेज सही हैं तो 3 दिन के भीतर आपको GST आवेदन को मंजूरी देगा और अगले 7 दिन के भीतर आपको आपका GST certificate प्राप्त होगा।
  • अगर आपके दस्तावेजों में कुछ गलती हैं तो 3 दिन के भीतर ही आपको और विवरण देने के बारे जानकारी दी जाएगी।
  • जिसे आपको 7 दिन के भीतर GST REG form 4 के साथ सारे दस्तावेज दुबारा देने होंगे।
  • उनकी पुष्टि के बाद आपको आपका GST certificate प्राप्त होगा या आपके आवेदन को ख़ारिज कर दिया जायेगा।

आशा करता हूँ GST kya hai इस सवाल का जवाब आपको अच्छे से समझ आ गया होगा।

GST kya hai इस से रिलेटेड अन्य सवाल आप हमसे comment सेक्शन में पूछ सकते हैं। साथ ही पैसे कमाने से जुड़े सवालो के लिए आप हमारे पेज के दूसरे पोस्ट्स देख सकते हैं।


LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here